Saturday, 21 January 2012

भारत को जमाने का सरताज बना देगे

वो वक्त भी आयेगा की दुनिया को दिखा देगे
हम ज्ञान के गोलों से और तर्क कि तोपों से
पाखंड के महलो को मिटटी में मिला देगे
इस मुल्क कि किस्मत पर, इस कोम कि हालत पर
कल अश्क बहाते थे ,अब खून बहा देगे
हमको नहीं अदावत हरगिज किसी से लकिन
जो हमको मिटाएगा, हम उसको मिटा देगे

भारत को जमाने का सरताज बना देगे
वो वक्त भी आयेगा की दुनिया को दिखा देगे

इन बेबात के झगड़ो को, इन कोम के रगडो को
हम प्यार मोहबत्त कि गंगा में बहा देगे
सिर्फ बाते न इन्हें समझे , हर कम नया होगा
बिगड़ते हुए ,भारत कि हर बात बना देगे

भारत को जमाने का सरताज बना देगे
वो वक्त भी आयेगा की दुनिया को दिखा देगे

जिन्दा दिली में भी हम इश्क जगा देगे
भारत को जमाने का सरताज बना देगे,,,,,,,,

--
Aditya Sharma 07895002465

भारत को ज़माने का सरताज बना देगे , वो वक्त भी आयेगा क़ि दुनिया को दिखा देगे
जो हमको मिटाएगा , हम उसको मिटा देगे ...................

3 comments:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि-
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ...!

    ReplyDelete